Skip to main content

Posts

Showing posts with the label technology

Kali Linux के लिए Bootable Pendrive कैसे बनाये

 Kali Linux के लिए Bootable Pendrive कैसे बनाये Making bootable Drive on Kali Linux: इस मेथड ( Method) के द्वारा हम काली लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर को पेनड्राइव में इंस्टॉल करते है। और जरूरत पड़ने पर अपने  में ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर में ब छेड़-छाड़ किये बिना पेनड्राइव में इंस्टाल किये गए पेनड्राइव में इंस्टॉल किये गए काली लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर का प्रयोग कर सकते है। Making: Search>Google.com>Download kali linux(www.kali.org)>अब अपने कंप्यूटर के वर्शन के अनुसार सॉफ्टवेयर के वर्शन को चुनिए >अब ISO या HTTP,Torent पर क्लिक करके काली लिनक्स सॉफ्टवेयर को डाउनलोड कर लीजिये। नोट: आप काली लिनक्स के अलावा किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर को डाउनलोड कर सकते है। किसी अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करने  लिए उसके ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर जानकारी ले।  Power (ISO): यह एक प्रकार का एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर है।जिसकी सहायता से हम काली लिनक्स को पेनड्राइव के इंस्टाल करेंगे।  Power ISO को डाउनलोड करने के लिए निचे दिए गए निर्देशो को फॉलो करे।  Search. Google.com>Power I

What is tor Browser-टोर ब्राउज़र क्या है

 Tor ब्राउज़र क्या है: आपको बता दे की टोर एक विशेष प्रकार का ब्राउज़र है। जो इंटरनेट में हमारी पहचान छुपाने के लिए प्रयोग किया जाता है। टोर ब्राउज़र का मुख्य कार्य डिवाइस की पहचान को छुपाना है। इस ब्राउज़र को मुख्य रूप से (विंडोज,आईओएस तथा एंड्राइड)ऑपरेटिंग सिस्टम में प्रयोग में लाया जाता है। टोर ब्राउज़र के मुख्य उद्देश्य उपयोगकर्ता की गोपनीयता की सुरक्षा है।  इंटरनेट पर ऐसी बहुत सी चीजे है। जिन्हे सर्च इंजन खोज नहीं पाते, जिसे गूगल जैसा आधुनिक सर्च इंजन भी नहीं खोज सकता। उसे टोर ब्राउज़र की मदद से इंटरनेट पर खोजै जा सकता है। जैसे डार्क वेब (डीप वेब) ,इंटरनेट अधिकतर हिस्सा डार्क वेब में निहित है। एक रीसर्च के अनुसार एक नार्मल व्यक्ति इंटरनेट का मात्र 4% हिस्सा ही प्रयोग कर सकता है बाकि का 96% डार्क वेब है जिसे एक नार्मर इंटरनेट उपभोक्ता उपयोग नहीं कर सकता है। टोर ब्राउज़र कैसे करता है: टोर ब्राउज़र को ओपन करने पर यह अपने सर्वर से कनेक्ट होता है और वही से यह ब्राउज़र आपके डिवाइस की  IP एड्रेस को हाईड(छुपाना) करके खुद की IP एड्रेस की एक सर्किट बनाता है।  इस ब्राउज़र द्वारा बनाई गई सर्किट Onio

कंप्यूटर की भाषाये

  कंप्यूटर भाषाएँ कंप्यूटर की भाषा  एक प्रकार का कोड है जिसे प्रोग्रामर द्वारा विकशित किया जाता है।  कंप्यूटर की भाषा  सॉफ्टवेयर और प्रोग्राम के बीच समंध स्थापित करने के लिए जिम्मेदार है। कंप्यूटर की भाषा  की मदद से एक कंप्यूटर उपयोगकर्त्ता कंप्यूटर से डेटा प्रोसेस करने के लिए आवश्यक कमांड की पहचान अच्छे तरीके से कर सकता है। कंप्यूटर की इन भाषाओं को तीन भागो में बता गया है। 1.मशीनी भाषा 2.असेम्बली भाषा 3.उच्च स्तरीय भाषा यह भी पढ़े...   हार्ड डिस्क क्या है ? मशीनी भाषा: यह भाषा कंप्यूटर की मूल भाषा  है। इस भाषा को CPU (Central Processing Unit) के द्वारा समझा जाता है।कंप्यूटर की इस भाषा को किसी व्यक्ति के लिए समझना आसान नही है क्योंकि इस भाषा मे कोई भी कमांड देने के लिए बाइनरी अंको(केवल एक 1 और शून्य 0) का प्रयोग कंप्यूटर द्वारा किया जाता है। असेम्बली भाषा : यह एक विशेष प्रकार की भाषा के कोड का एक सेट है।इस भाषा को  मशीनी भाषा  के द्वारा तैयार किये जाने वाले प्रोग्राम में आने वाली कठिनाइयों को दूर करने के उद्देश्य से बनाया गया। इस भाषा का नाम असेम्ब्ली भाषा है।  इसे सीधे कंप्यूटर के प्रो

हार्ड डिस्क क्या है और उसके प्रकार

 हार्ड डिस्क क्या है Hard Disk (हार्ड डिस्क ): हार्ड डिस्क  एक प्रकार का स्टोरेज डिवाइस होता है। इसका प्रयोग बहुत अधिक मात्रा में आकड़ो को संग्रहित करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग मुख्यतः लैपटाप या कंप्यूटर में किया जाता है।  हार्ड डिस्क डाटा को स्टोर करने के लिए एक या एक से अधिक बार घूर्णन करती है।  हार्ड डिस्क की संग्रहण क्षमता  GB (गीगाबाइट ) या TB (टेराबाइट )  मापा जाता है।  सॉलिड डिस्क ड्राइव (SSD): यह एक स्टोरेज डिवाइस है। जो किसी भी डाटा को हार्ड डिस्क की अपेक्षा कम समय में रीड( पढ़ना ) कर सकती है। अर्थात इसमें डाटा इसमें डाटा तीव्र गति से स्टोर किया जा सकता है।  यह एक प्रकार की मेमोरी है जिसमे SSDs फ्लैश-आधारित मेमोरी का उपयोग करके   हार्ड डिस्क की जगह इसका उपयोग कर सकते है। सॉलिड-स्टेट ड्राइव (SSD) कंप्यूटर में उपयोग होने वाली एक नई पीढ़ी का स्टोरेज डिवाइस है।    CD Rom (Compact Disk Read Only Memory): इस डिवाइस के माध्यम से हम कंप्यूटर के किसी सॉफ्टवेयर एवं  प्रोग्रम को इंस्टाल करने का कार्य करते है। इसके साथ ही हम किसी फिल्म अथवा गाने को सी डी में उपलोड कर सकते है।  Im

All PDF List (computerhindinotes.ooo)

Fundamental                                             Click Here MS DOS                                             Click Here Command Prompt(CMD)             Clic k Here Windows                                          Click Here MS Word                                           Click Here MS Excel                                       Click Here MS PowerPoint                          Click Here Learn Questions List 1                 Click Here Learn Questions List 2                 Click Here

Command Prompt (CMD) Switch कमांड के बारे में हिंदी में जाने ?

CMD(Command Prompt ) All Switch Command   Switch: कंप्यूटर में फाइल एवं डाइरेक्टरी के किसी निश्चित समूह को देखने के लिए स्विच का प्रयोग ( / ) के साथ किया जाता है। एम एस डास में मुख्य रूप से नीचे दी गई स्विच का प्रयोग किया जाता है। .. /P , /W , /ON , /O-N , /OD , /O-D , /OG , /O-G , /OS , /O-S , /AD ,/A-D . /P  इस स्विच का प्रयोग रुट पर उपस्थित फाइल एवं डाइरेक्टरी के लिस्ट को पेज बाई पेज  देखने के लिए किया जाता है।  उदा ०  C:\>DIR  /P Enter /W इस स्विच का प्रयोग पार उपस्थित फाइल एवं डाइरेक्टरी को चौड़ाई में देखने के लिए किया जाता है।  उदा ०  C:\>DIR  /W  Enter /ON इस स्विच का प्रयोग रुट पर उपस्थित फाइल एवं डाइरेक्टरी को A टू Z के क्रम में देखने के लिए किया जाता है। उदा ०  C:\>DIR  /ON  Enter /O -N इस स्विच का प्रयोग रुट पर उपस्थित फाइल एवं डाइरेक्टरी को Z टू A के क्रम में देखने के लिए किया जाता है। उदा ०  C:\>DIR  /O-N  Enter /OD इस स्विच  का प्रयोग रुट पर उपस्थित  फाइल एवं डाइरेक्टरी के डाटा को  बढ़ते हुए क्रम देखन

windows (हिंदी नोट्स) - Computer Hindi Notes

Windows Introduction of windows: विंडोज  का परिचय: विंडोज एक ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर है। प्रत्येक कंप्यूटर को चलाने के  ऑपरेटिंग सिस्टम की आवश्यकता होती है। ऑपरेटिंग सिस्टम का मुख्य कार्य कंप्यूटर के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बिच सम्बन्ध स्थापित करना है। ऑपरेटिंग; सिस्टम कंप्यूटर से जुड़े हुए समस्त इनपुट तथा आउटपुट की जाँच करते हुए उन्हें नियंत्रित करने का कार्य करता है। यह माइक्रोसॉफ्ट कॉर्पोरेशन द्वारा विकसित किये जाने वाला अतयंत महत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर है। यह मल्टी यूजर ऑपरेटिंग;ऑपरेटिंग सिस्टम प्रोग्राम है। अर्थात इस सॉफ्टवेयर पर एक साथ एक से अधिक लोग कार्य कर सकते है। विंडोज GUI (Graphical User Interface) पर आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर है। विंडोज़ का संस्करण: Version of Windows: वर्तमान समय में विंडोज के विभिन्न वर्जन मार्केट में उपलब्ध है। विंडोज के इन सभी वर्जनों को दो भागो में बाटा गया है Windows 3.0 To 3.11               (विंडोज 3.0  टू   3.11)      Windows 95 To Ultimate        (विंडोज   95  टू  अल्टीमेट) 1.   विंडोज 3.0  टू   3.11 :     Windows 3.0

बेसिक कमांड लिस्ट देखे हिंदी में Command Prompt(CMD)

CMD (Command Prompt) All Commands सी एम डी कमांड लिस्ट  Internal Command (आंतरिक कमांड ): यह कमांड कंप्यूटर का आंतरिक कमांड होता है। इसे कंप्यूटर में प्रयोग करने के लिए विशेष डॉस फाइल की आवश्यकता नहीं होती है। इसे हम किसी भी ऑपरेट हो रहे सिस्टम में प्रयोग कर सकते है।  MD Command: इस कमांड का प्रयोग डास के अंतर्गत किसी भी नाम से अपनी आवश्यकता अनुसार डाइरेक्टरी बनाने के लिए किया जाता है।  उदा ० : C:\> MD DIR AMIT  Enter CD Command: इस कमांड का प्रयोग MD कमांड द्वारा बनाई गई डाइरेक्टरी को लोड करने के लिए किया जाता है।  उदा ० : C:\> CD DIR NAME Enter CD.. Command: इस कमांड का प्रयोग लोड को गई डाइरेक्टरी से स्टेप बाई स्टेप बाहर आने के लिए किया जाता है।  उदा ० : C:\>AJAY \ MOHAN \RAJ > CD.. Enter C:\> AJAY \MOHAN . CD.. Enter C;\>AJAY>CD.. Enter C:\> CD../.. Command: इस कमांड का प्रयोग लोड की गई डाइरेक्टरी में से दो दो डाइरेक्टरी एक साथ बाहर आने के लिए किया